यहां बदमाश पुलिस से अधिक इससे डरते हैं, रातों को निकलना तक बंद कर दिया है

0 0

बिजनौर। यदि आपसे कहा जाए कि एक ऐसी जगह है जहां बदमाश, चोर और उचक्के पुलिस से नहीं डरते हैं बल्कि किसी और से डरते हैं। पहले तो आपको इस पर विश्वास नहीं होगा, फिर आपको लगेगा कि पुलिस से उनकी मिलीभगत होगी, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। हालांकि बदमााशों की तरफ से पुलिस को थोड़ी राहत जरूर मिली है, लेकिन उन्हें भी उसका खौफ सता रहा है। इसके अलावा सबसे अधिक खौफ जनता को है। लोगों ने दिन में भी घरों से निकलना बंद कर दिया है और रात को जागकर पहरा देते हैं। चलिए तो आपको बता देते हैं कि वह कौन है जिसने इस कदर खौफ फैला रखा है।

यह मामला है बिजनौर जिले का। इस जिले से उत्तराखंड की पहाड़ियां मिलती हैं। यहीं है कालागढ़ और यहीं है जिम कार्बेट पार्क। दरअसल इस जिले में पिछले तीन महीने से एक अजीब सी दहशत लोगों में फैल गई है। कई गांवों के लोग तो पलायन भी कर गए हैं। ग्रामीणों ने खेतों में जाना बदं कर दिया है। बदमाश भी रात को यहां निकलने से घबराते हैं। इसलिए नहीं कि पुलिस बहुत सख्त हो गई या फिर ग्रामीणों ने पहरा देना शुरू कर दिया है बल्कि उन्हें एक डर है कि यदि वह रात को निकल गए तो पता नहीं जिंदा बच पाएंगे । पुलिस भी रात में गश्त करने से घबराने लगी है।

दरअसल यह खौफ है यहां गुलदार का। गुलदार की संख्या जिम कार्बेट में बढ़ गई है। और तो और अब वह जंगल से निकलकर आबादी की तरफ आ गए हैं। गुलदारों ने हमला कर करीब पांच लोगों को मौत के घाट उतार दिया है। आए दिन किसी न किसी पर हमले की खबर आती रहती है।

हद तो तब हो गई जब एक दिन एक गुलदार आकर हाईवे पर बैठ गया। इससे वहां दोनों तरफ का ट्रैफिक रूक गया। काफी कोेशिशों के बाद भी वह केवल बैठा गुर्राता रहा, जैसे वह कह रहा है कि यहां के हम हैं राजा हिम्मत है तो यहां से जाकर दिखाऔ।इस इलाके में शाम से ही ग्रामीणों में एक डर बैठ जाता है। दिन तो वह किसी तरह से काट लेते हैं, लेकिन रात नहीं कटती है।

सबको यही भय रहता है कि कब किधर से आकर गुलदार हमला कर दे। हालात को देखते हुए शासन ने भी एक गुलदार को गोली मारने के आदेश दे दिए हैं। क्यांेकि वह नरभक्षी हो गया है। लाख कोशिशों के बाद भी वह प्रशासन के हत्थे नहीं चढ़ रहा है। यही वजर है कि यहां रात में बदमाश भी निकलने में घबराते हैं।

advertisement at ghamasaana