कानपुर की घटना व भागवत के ब्राह्मण विरोधी बयान को लेकर ब्राह्मण समाज में आक्रोश : विनोद शर्मा

Outrage in Brahmin community
1 0

देहरादून। राजधानी के ग्यारह ब्राह्मण घटक संगठनों के संयुक्त मंच “ब्राह्मण समाज महासंघ” की मूलचंद एंक्लेव स्तिथ श्री सीताराम शिव मंदिर में आयोजित बैठक में मुख्य अतिथि पद से बोलते हुए पश्चिमी उप्र के वरिष्ठ ब्राह्मण नेता श्री विनोद शर्मा ने कहा कि संघ प्रमुख मोहन भागवत जी के ब्राह्मण विरोधी बयान तथा कानपुर की घटना को लेकर देश भर के ब्राह्मणों में व्यापक आक्रोश व्याप्त है।

अपने मान सम्मान को लेकर ब्राह्मण युवाओं को आगे आना होगा । उन्होंने कहा कि हमें अपने बच्चों को आई ए एस, पी सी एस, की फ्री कोचिंग की व्यवस्था हेतु गंभीरता से प्रयास करने होगे। एकता व संख्याबल से सरकारें झुकती है। हमें अपने समाज के उत्थान हेतु आगे आना ही होगा।

महासंघ के संरक्षक पंडित लाल चंद शर्मा ने कहा कि भगवान श्री परशुराम जयंती, शोभायात्रा, वर्ष प्रतिपदा, मालवीय जयंती जैसे कार्यक्रम सामूहिक रूप से मानने चाहिए। ब्राह्मण एकता का प्रदर्शन आज की जरूरत है।

राष्ट्रवादी ब्राह्मण महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष श्री अरुण शर्मा ने आह्वान किया कि आगामी 12 मार्च को हरिद्वार में आयोजित राष्ट्रव्यापी ब्राह्मण महासम्मेलन में अधिकाधिक संख्या में भाग लें ताकि हम अपने अधिकारों को प्राप्त कर सकें।

महासंघ के पूर्व प्रवक्ता डा. वी डी शर्मा ने कहा कि जो ब्राह्मण राजनेता ब्राह्मण सम्मेलनों व कार्यक्रमों में भाग लें तथा ब्राह्मण हितों की मांगों का समर्थन करें उन्हीं का हमें समर्थन करना चाहिए।

महासंघ के महामंत्री शशि शर्मा ने आगामी नववर्ष प्रतिपदा (21 मार्च) को सांय 7 बजे स्थानीय घंटाघर परिसर में अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर 2100 दीपों के प्रज्वलन में सहयोगी बने।

इनके अतिरिक्त बैठक को भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष सोमदत्त शर्मा, रामप्रसाद उपाध्याय, राजेंद्र शर्मा, राजकुमार शर्मा, अरुण शर्मा, उमाशंकर शर्मा, उदयभान शर्मा, अरविंद शर्मा, महेश शर्मा, चंद्शेखर पंत, आर के शर्मा, रूप चंद, सलेख चंद, संजय दत्ता, मनमोहन शर्मा आदि ने विचार रखे।

advertisement at ghamasaana