भारत की आजादी की अनकही दास्तान है फिल्म ’16 अगस्त, 1947′

1947
1 0

हम सबके अतीत की एक अनकही दास्तान, जिसे अब तक किसी ने बताने की हिम्मत नहीं की, का गवाह बनने के लिए तैयार हो जाएं। आजादी के इस शानदार दास्तान की फिल्म ’16 अगस्त, 1947′ के निर्माताओं ने फिल्म के नए पोस्टर और सात अप्रैल को इसकी वर्ल्डवाइड रिलीज की तारीख की घोषणा कर दी है। पोस्टर देशभक्ति की ताकत और भावना का जश्न मनाते हुए फिल्म के मुख्य कलाकारों और उस दौर के दृश्यों को दर्शाती है।

‘गजनी’ और ‘होलीडे’ जैसी फिल्में देने वाले दक्षिण भारत के सफलतम निर्माताओं में से एक ए.आर. मुरुगादॉस की नई फिल्म हमारे स्वतंत्रता संग्राम की एक अनदेखी और अनसुनी कहानी बताती है, साथ ही उनके सार्वभौमिक और मौलिक विषय चयन को भी अलग से रेखांकित करता है।

ए.आर. ओमप्रकाश भट्ट और नरसीराम चौधरी के साथ मिलकर ए.आर. मुरुगादॉस ने इस फिल्म का निर्माण किया है। ’16 अगस्त, 1947′ अपने नए कथानक और भव्य प्रोडक्शन वैल्यू के लिए आजकल व्यापक चर्चा में है। फिल्म तमिल तेलुगु, कन्नड़ हिंदी और अंग्रेजी भाषा में पूरे देश में एकसाथ रिलीज होगी।

यह रोचक कहानी स्वतंत्रा संग्राम के समय के गांव के एक साहसी शख्स की है, जो अपने प्यार के लिए शैतानी अंग्रेजी हुकूमत से लड़ता है। फिल्म की रिलीज की घोषणा के बाद से सिनेप्रेमी इसकी रिलीज का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

पर्पल बुल एन्टरटेनमेंट और ए.आर. मुरुगादॉस प्रोडक्शन की प्रस्तुति ’16 अगस्त, 1947′ ए.आर. मुरुगादॉस, ओम प्रकाश भट्ट, नरसीराम चौधरी और आदित्य जोशी द्वारा सहनिर्मित है। गौतम कार्तिक, रेवती, पुगाज़ जैसे कलाकारों से सजी इस फिल्म का निर्देशन एन.एस. पोंकुमार ने किया है। फिल्म 7 अप्रैल को दुनिया भर में रिलीज होगी।

advertisement at ghamasaana