बागपत में प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं पर पुलिस ने लाठियां फटकारीं

women attack on police
women attack on police in bagpat
1 0

बागपत। सांकरौद गांव के साबुद्दीन हत्याकांड का खुलासा नही होने पर लोग दिल्ली सहारनपुर हाईवे पर उतर गए। जिन्हें रोकने के लिए पुलिस ने लाठियां मारी (Police lathicharged on women) और उनके नही रुकने पर महिलाओं के साथ खींचतान की। जिसके बाद लोगो ने एसपी कार्यालय पर हंगामा करते हुए धरना दिया। जिन्हें पुलिस अधिकारी समझाने में जुटे हुए है।

साकरोद गांव के रहने वाले साबुद्दीन की चार दिन पहले घर से बुलाकर चाकुओ से गोदकर हत्या कर दी गई थी। आरोप लगाया कि हत्याकांड के बाद पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में कई युवक बुलाकर ले जाते हुए नजर आए लेकिन पुलिस ने कार्रवाई नही की। मृतक के परिजनों ने पुलिस पर चार दिन बाद भी खुलासा नही होने पर हंगामा किया और हाईवे पर पहुंच गए और जाम लगाने का प्रयास करते हुए हंगामा किया तो पुलिस ने महिलाओं पर लाठी चला दी (Police lathicharged on women) । जिसके बाद भी मृतक पक्ष के लोग नही माने और हाइवे पर ही जुलूस निकालने लगे । जिस पर महिलाओं के साथ खींचतान की गई।

इसके बाद पुलिस कर्मियों ने पीड़ित पक्ष के ट्रैक्टर की चाबी निकाल ली तो पीड़ित पक्ष पैदल ही एसपी कार्यालय पहुंच गए। जहां पुलिस पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए धरना देकर बैठ गए। इसके बाद मृतक पक्ष ने पुलिस पर सुनवाई नही करने और आरोपी पक्ष पर बार बार जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया। जिसके बाद एएसपी एनपी सिंह ने पीड़ित पक्ष को समझाकर शांत कराया।

एसपी अर्पित विजयवर्गीय अपने कार्यालय में बैठे रहे और बाहर हंगामा होता रहा। पुलिस पर मारपीट और उत्पीड़न के आरोप लगे। इसके बाद भी एसपी बाहर नहीं निकले तो लोगो का ग़ुस्सा बढ़ गया। जिनको एएसपी ने किसी तरह समझाया। बागपत में लगातार आपराधिक घटनाएँ हो रही है और पुलिस लाचार दिख रही है।

advertisement at ghamasaana