लोन डिफाल्टर कार खरीदने से पहले ये बातें जान लें, नहीं तो पड़ सकता है पछताना

loan defaulter car
3 0

नई दिल्ली। त्योहारों पर आप कार खरीदने का मन बना रहे हैं, लेकिन जो कार आप खरीदना चाह रहे हैं वह आपके बजट से काफी महंगी है। इस बीच आपकी नजर सोशल मीडिया के एक ऐसे विज्ञापन पर पड़ी जो आपको आपकी मनपसंद कार आधे पैसे में दे रहा है। कार की कंडीशन भी बिल्कुल नई है। जब आप और छानबीन करते हैं तो आपको पता चलता है कि यह लोन डिफाल्टर कार loan defaulter car है। अब लोन डिफाल्टर कार खरीदने का मन बना लिया है तो यह लेख आपके लिए ही है। इस तरह की कार खरीदते समय आपको किन बातों को ध्यान रखना चाहिए यही हम आपको बताने जा रहे हैं।

सबसे पहले तो आप यह समझ लीजिए कि लोन डिफाल्टर कार क्या है। दरअसल ये वो गाड़ियां होती हैं जो पहले किसी ने बैंक से लोन लेकर खरीदी थी, लेकिन एक ही दो महीने बाद उसकी स्थिति ऐसी हो जाती है कि वह लोन चुकाने की स्थिति में नहीं रह जाता है। ऐसे में बैंक इसे जब्त कर लेता है।

अब बैंक को तो अपना पैसा चाहिए इसलिए वह इस कार की नीलामी बहुत कम पैसे में करता है। अब यदि आपने सीधे बैंक की नीलामी में शामिल होकर इस कार को खरीदा है तो कोई बात नहीं, यह आपके लिए फायदे का सौदा है, लेकिन इन दिनों एक ऐसा रैकेट काम कर रहा है जो चोरी की गाड़ियों को लोन डिफाल्टर loan defaulter बता कर बेच रहे है। ऐसे में अगर आपने इन गाड़ियों में से कोई कार खरीदी तो बाद में इसका आपको बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। ऐसे में इन कारों को खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखें जिससे भविष्य में कोई परेशाानी न हो।

कार खरीदने से पहले बेचने वाले से उसकी आरसी और बैंक की एनओसी मांगे। बैंक लोन डिफॉल्टर गाड़ियों नीलामी के साथ ही एक एनओसी भी जारी करता है, जिससे आप कार को अपने नाम रजिस्टर करवा सकते हैं। इसके अलावा कार की ऑरिजनल चाबियां और लास्ट इंश्योरेंस कॉपी भी मांगे।

ऐसी गाड़ियों का पेमेंट कभी भी कैश में न करें। लोन डिफॉल्ट गाड़ियों पर बैंक फाइनेंस करते हैं, यदि आप गाड़ी पूरा पेमेंट कर के भी ले रहे हैं तो भी बैंक में लोन के लिए फाइल लगाएं, ऐसे में बैंक पूरी तहकीकात करेगा। इस पूरे काम में आपके केवल फाइल चार्ज लगेंगे, लेकिन कार लीगल है कि नहीं आपको इसका पता चल जाएगा।

advertisement at ghamasaana